झारखंड सरकार गिराने के लिए 10 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर था, कांग्रेस विधायक अनूप का दावा

झारखंड सरकार गिराने के लिए 10 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर था, कांग्रेस विधायक अनूप का दावा
रांची:  
झारखंड के बेरमो विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस पार्टी विधायक कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह ने अपनी ही पार्टी के तीन विधायकों इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन विक्सल कोंगाड़ी पर झारखंड गवर्नमेंट को अस्थिर करने की षड्यंत्र में शामिल होने का आरोप लगाया और इस मामले में रांची के अरगोड़ा थाने में लिखित कम्पलेन दर्ज करायी है. इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि गवर्नमेंट गिराने के लिए इन साथी विधायकों के जरिए उन्हें 10 करोड़ रुपये और मंत्री पद का ऑफर दिया जा रहा था.

उन्हें बताया गया था कि गुवाहाटी में उनकी असम के सीएम हिमंत बिस्वा शर्मा से मुलाकात करायी जायेगी, जो उन्हें झारखंड में बनने वाली नयी गवर्नमेंट में उन्हें मंत्री पद देने को लेकर आश्वस्त करेंगे.

रांची की अरगोड़ा थाने की पुलिस ने कांग्रेस पार्टी विधायक की इस लिखित कम्पलेन को जीरो एफआईआर के तौर पर दर्ज करते हुए इसकी कॉपी पश्चिम बंगाल के हावड़ा (ग्रामीण) की एसपी को भेज दी है. उल्लेखनीय है कि कांग्रेस पार्टी के तीन विधायकों इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन विक्सल कोंगाड़ी को हावड़ा जिले के रानीहाट में शनिवार देर शाम भारी कैश के साथ अरैस्ट किया गया था.

कांग्रेस विधायक अनूप ने अपनी कम्पलेन में लिखा है कि इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और विक्सल कोंगाड़ी उन्हें कोलकाता बुला रहे थे. उन्हें बोला गया था कि गवर्नमेंट गिराने के बदले प्रति एमएलए 10 करोड़ रुपये दिये जाने थे. इरफान अंसारी और राजेश कच्छप चाहते थे कि मैं कोलकाता आऊं. वे लोग मुझे गुवाहाटी लेकर जाते. उनके मुताबिक वे मेरी मुलाकात असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा शर्मा से कराते और मंत्री पद के लिए आश्वस्त करते. उन्हें यह भी बताया गया था कि हिमंत बिस्वा शर्मा यह सब पार्टी के टॉप लीडर्स के आशीर्वाद और उनकी सहमति से कर रहे हैं.

विधायक अनूप सिंह के अनुसार, इरफान अंसारी ने उनसे बोला कि नयी गवर्नमेंट में उन्हें स्वास्थ्य मंत्री बनाने का वचन दिया गया है. इरफान ने उन्हें यह भी बताया गया कि कल (शनिवार) दोपहर वे कोलकाता पहुंच रहे हैं. उनके लोगों को पैसे भी ट्रांसफर किये गये हैं.

अनूप सिंह ने अपनी कम्पलेन में पुलिस से आग्रह किया है कि उन्हें गैर कानूनी कार्य के लिए प्रभावित करने के मुद्दे में जांच की जाये.