मोदी जी-7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए जर्मन पहुंचे

मोदी जी-7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए जर्मन पहुंचे

बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने व्यापार तथा निवेश, रक्षा सहयोग, कृषि, जलवायु कार्रवाई और खाद्य सुरक्षा जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की. यह दोनों नेताओं के बीच पहली द्विपक्षीय मुलाकात थी. दोनों नेताओं ने 2019 में स्थापित द्विपक्षीय रणनीतिक साझेदारी को लागू करने में प्रगति की समीक्षा की.

म्यूनिख. पीएम नरेन्द्र मोदी ने रविवार को यहां जी-7 शिखर सम्मेलन से इतर अर्जेंटीना के राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडीज के साथ एक सार्थक बैठक की और द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की.
बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने व्यापार तथा निवेश, रक्षा सहयोग, कृषि, जलवायु कार्रवाई और खाद्य सुरक्षा जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की.
यह दोनों नेताओं के बीच पहली द्विपक्षीय मुलाकात थी. दोनों नेताओं ने 2019 में स्थापित द्विपक्षीय रणनीतिक साझेदारी को लागू करने में प्रगति की समीक्षा की.

मोदी जी-7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए रविवार को जर्मनी के दो दिवसीय दौरे पर यहां पहुंचे. वह ताकतवर समूह और उसके सहयोगी राष्ट्रों के नेताओं के साथ ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा, आतंकवाद रोधी, पर्यावरण और लोकतंत्र जैसे मुद्दों पर चर्चा करेंगे.
मोदी ने ट्वीट किया, म्यूनिख में राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडीज के साथ सार्थक बैठक के दौरान भारत-अर्जेंटीना के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों की समीक्षा की गई. हमारे राष्ट्रों के बीच मजबूत योगदान से हमारे लोगों को बहुत लाभ होगा.’’
प्रधानमंत्री कार्यालय ने मोदी की दो राष्ट्रों की यात्रा के दौरान पहली द्विपक्षीय बैठक पर एक ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने म्यूनिख में राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडीज के साथ वार्ता की. दोनों नेताओं ने हिंदुस्तान और अर्जेंटीना के बीच वाणिज्यिक और सांस्कृतिक संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के उपायों पर चर्चा की.’’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी ने अर्जेंटीना के राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडीज से मुलाकात की जो उनकी पहली द्विपक्षीय बैठक थी. व्यापार एवं निवेश, जलवायु कार्रवाई, दक्षिण-दक्षिण सहयोग,पारंपरिक चिकित्सा, कृषि जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई.’’

मंत्रालय ने एक बयान में बोला कि व्यापार एवं निवेश, दक्षिण-दक्षिण सहयोग, विशेष रूप से फार्मास्युटिकल क्षेत्र में, जलवायु कार्रवाई, अक्षय ऊर्जा, परमाणु चिकित्सा, विद्युत गतिशीलता, रक्षा सहयोग, कृषि और खाद्य सुरक्षा, पारंपरिक चिकित्सा, सांस्कृतिक सहयोग, साथ ही अंतर्राष्ट्रीय निकायों में समन्वय सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई. उसने बोला कि दोनों पक्ष इन क्षेत्रों में अपने द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने पर सहमत हुए.
भारत के अतिरिक्त जी7 शिखर सम्मेलन के मेजबान जर्मनी ने अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, सेनेगल और दक्षिण अफ्रीका को अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्रों को अपने भागीदारों के रूप में मान्यता देने के लिए मेहमान के रूप में आमंत्रित किया है.
भारत-अर्जेंटीना संबंधों को 2019 में रणनीतिक साझेदारी के स्तर तक बढ़ा दिया गया था. दोनों राष्ट्रों के बीच बहुआयामी संबंध पिछले कुछ सालों में मजबूत हुए हैं और इसमें राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक एवं तकनीकी योगदान शामिल है.
अर्जेंटीना में भारतीय मूल के लगभग 2,600 लोग रहते हैं, जिनमें भारतीय कंपनियों और बहुराष्ट्रीय निगमों के साथ काम करने वाले पेशेवर शामिल हैं.
मोदी 28 जून को जर्मनी से संयुक्त अरब अमीरात जाएंगे.