सांसद नवनीत राणा ने किया दिल्ली में किया हनुमान चालीसा का पाठ

सांसद नवनीत राणा ने किया दिल्ली में किया हनुमान चालीसा का पाठ

निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा ने शनिवार को यहां हनुमान मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ किया और दावा किया कि उन्होंने 'महाराष्ट्र पर शिवसेना के रूप में मंडरा रहे सबसे बड़े खतरे' को टालने के लिए प्रार्थना की है. दंपति को महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के मुंबई स्थित आवास के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने के बाद राजद्रोह के आरोपों में पिछले महीने अरैस्ट किया गया था और 12 दिन बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया. केसरिया साड़ी पहने नवनीत राणा अपने पति तथा सैकड़ों समर्थकों के साथ नॉर्थ एवेन्यू स्थित अपने आवास से कनॉट प्लेस में हनुमान मंदिर तक पैदल गयीं. नवनीत ने मंदिर के बाहर पत्रकारों से कहा, ''उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र पर मंडरा रहा सबसे बड़ा खतरा हैं. मैं महाराष्ट्र को इस खतरे से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना करने के लिए आयी हूं.' राणा दंपति ने मंदिर में आरती भी की. वे ऐसे दिन मंदिर गए जब ठाकरे का मुंबई में एक बड़ी रैली को संबोधित करने का कार्यक्रम है.

इस बीच, अमरावती से सांसद नवनीत राणा ने शिवसेना पर महाराष्ट्र में सत्ता हथियाने के लिए कांग्रेस पार्टी और राकांपा से हाथ मिलाकर हिंदुत्व को त्याग देने का आरोप लगाया. शिवसेना नेता संजय राउत ने कथित तौर पर बोला था कि शिवसेना की वास्तविक शैली दिखाने का समय आ गया है. इस बारे में पूछने पर नवनीत राणा ने बोला 'उद्धव ठाकरे बालासाहेब ठाकरे की विरासत को भूल गए हैं. बालासाहेब हिंदुत्व के सच्चे पथ प्रदर्शक थे, ये तो नकली हैं.' नवनीत राणा ने ठाकरे को हिंदुत्व का समर्थन करने के लिए उन्हें निशाना बनाने के बजाय ''ओरेंगजेब की कब्र पर प्रार्थना करने वाले लोगों'' के विरूद्ध कार्रवाई करने की चुनौती दी थी. शिवसेना पर हमले जारी रखते हुए राणा दंपति ने बोला कि वे मुंबई महानगरपालिका से ''शिवसेना की करप्शन की लंका को उखाड़ देंगे'', जहां चुनाव अभी होने हैं.

देश के सबसे समृद्ध क्षेत्रीय निकाय मुंबई महानगरपालिका पर 1996 से शिवसेना का अतिक्रमण है. इस निकाय के चुनाव पर सबकी नजर रहती है जिसका सालाना बजट 30,000 करोड़ रुपये से अधिक है. यह राशि कुछ छोटे राष्ट्रों के बजट से कहीं अधिक है.


नए प्रदेश अध्यक्ष पर बोले रमन

नए प्रदेश अध्यक्ष पर बोले रमन

छत्तीसगढ़ बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और संगठन के बाकी पदाधिकारी बदले जाने की चर्चा है. जल्द ही से लेकर छत्तीसगढ़ बीजेपी कोई बड़ा निर्णय कर सकती है. इस मुद्दे पर डॉ रमन सिंह ने अपना बयान दिया है. दरअसल कई नेता अध्यक्ष बनने की ख़्वाहिश जाहिर कर चुके हैं. डॉ रमन सिंह ने बोला कि हर किसी के मन में अध्यक्ष बनने की ख़्वाहिश होती है, कौन नहीं बनना चाहेगा अध्यक्ष, कुछ लोगों ने तो नए कपड़े भी सिलवा लिए हैं.

डॉ रमन सिंह ने यह बयान रायपुर के एयरपोर्ट पर दिया. शनिवार को वह राजस्थान से लौट आए . दरअसल राजस्थान में राष्ट्रीय पदाधिकारियों की दो दिवसीय बैठक थी. छत्तीसगढ़ से इस बैठक में शामिल होने डॉ रमन सिंह, पवन साय, विष्णु देव साय और प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी पहुंची हुई थीं.

वर्किंग प्रोफेशनल बीजेपी का नया टारगेट
छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह ने राजस्थान से लौटने के बाद बताया कि अब बीजेपी अपने नए टारगेट के अनुसार काम करेगी . वर्किंग प्रोफेशनल्स को पार्टी से जोड़ा जाएगा. राष्ट्रीय पदाधिकारियों की हुई बैठक में पीएम मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने तमाम नेताओं को यह लक्ष्य दिया है. अब पार्टी चिकित्सक वकील, पत्रकार, चार्टर्ड अकाउंटेंट जैसे भिन्न-भिन्न प्रोफेशन से जुड़े ऐसे लोगों को बीजेपी से जोड़ेगी.

डॉ रमन सिंह ने बताया कि बैठक में पीएम मोदी की बातें काफी प्रेरणादायक रहीं. उन्होंने वर्तमान सियासी स्थिति पर बीजेपी की किरदार पर चर्चा की. उन्होंने यह भी बोला कि कांग्रेस पार्टी में परिवारवाद की वजह से वह पार्टी पतन की ओर है . बीजेपी को विकासवाद के रास्ते से भटकना नहीं चाहिए . हम विकासवाद साथ लेकर चलते हैं. आज बीजेपी राष्ट्र में जिस मुकाम पर खड़ी है वह डेवलपमेंट की नीतियों की वजह से ही हुआ है. गांव गरीब किसान के लिए हितकर योजनाएं बनाने की वजह से ही हुआ है. परिवारवाद और अपनी गलत नीतियों की वजह से कभी राष्ट्र के सभी राज्यों में गवर्नमेंट बनाने वाली कांग्रेस पार्टी आज केवल दो राज्यों में सिमट कर रह गई है.