उत्तर प्रदेश के मेरठ-प्रयागराज गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण की तैयारी अब तेज

उत्तर प्रदेश के मेरठ-प्रयागराज गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण की तैयारी अब तेज

उत्तर प्रदेश के मेरठ-प्रयागराज गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण की तैयारी अब तेज हो गई है सूबे का अब तक का सबसे बड़ा 594 किमी लंबा गंगा एक्सप्रेस-वे प्रयागराज से मेरठ होते हुए यूपी के विकास की नयी इबारत लिखने की तैयारी में है गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए अब तक 56 प्रतिशत से अधिक का क्लीयरिंग एंड ग्रबिंग का कार्य पूरा किया जा चुका है यही नहीं एक्सप्रेस-वे के लिए लगभग 6966 हेक्टेयर यानी 94 फीसदी से अधिक भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है

 

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की आरंभ के बाद अब गंगा एक्सप्रेस-वे योगी गवर्नमेंट का ड्रीम प्रोजेक्ट बताया जा रहा है केंद्र गवर्नमेंट ने इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए 13 जुलाई को इंवायरमेंटल क्लीयरेंस भी दे दिया है इसके बाद से एक्सप्रेस-वे के निर्माण में और तेजी आ गई है

शाहजहांपुर में हवाई पट्टी बनाया जाएगा

गंगा एक्सप्रेस-वे प्रदेश का छठा और सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा यही नहीं एक्सप्रेस-वे पर इमरजेंसी स्थिति में भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों के लैंडिंग/टेकऑफ के लिए शाहजहांपुर में 3.5 किमी लंबी हवाईपट्टी भी विकसित की जानी है

परियोजना से किसको मिलेगा अधिक फायदा

इस एक्सप्रेस-वे के दोनों किनारों पर (मेरठ, हापुड़, बरेली, मुरादाबाद, हरदोई, लखनऊ, कानपुर और प्रयागराज) में इंडस्ट्रीयल हब बनाने के लिए गवर्नमेंट की तरफ से यूपीडा का अधिकृत किया गया है एजेंसी का चयन कर इंडस्ट्रीयल हब को विकसित करने का कार्य तेजी के साथ कराया जा रहा है

 

औद्योगिक कॉरिडोर के रूप में कैसे सहायक होगा एक्सप्रेस-वे?

गंगा एक्सप्रेस-वे से सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ कृषि, वाणिज्य, पर्यटन और उद्योगों की आय को बढ़ावा मिलेगा इसके अतिरिक्त कृषि उत्पादन क्षेत्रों को राष्ट्रीय राजधानी से जोड़ने के लिए एक औद्योगिक कॉरिडोर के रूप में सहायक होगा एक्सप्रेस-वे खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों, भंडार गृह, मंडी और दुग्ध आधारित उद्योगों की स्थापना के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में काम करेगा